300*250 ads

Breaking News

देवेंद्र फडणवीस का उद्धव सरकार पर आरोप, Mumbai में Covid-19 से मौत का छिपाया जा रहा सही आंकड़ा

नई दिल्ली। कोरोना वायरस का खतरा ( Coronavirus )लगातार बढ़ता जा रहा है। देशभर में कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या पांच लाख के करीब पहुंचने वाली है। महाराष्ट्र ( Coronavirus ) में हालात अब भी काबू में नहीं आए हैं। इस बीच बीजेपी ( BJP ) के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ( Devendra Fadanvis ) ने उद्धव सरकार ( Uddhav Govt ) पर बड़ा आरोप लगाया है। फडणवीस ने कहा है कि महाराष्ट्र सरकार राज्य में कोविड-19 से करीब 1000 लोगों की मौत की जानकारी अब तक सामने नही लायी है। उद्धव सरकार प्रदेश में कोरोना से मौत के सही आंकड़े को छिपा रही है।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ( CM Uddhav Thackeray ) को फिर से लिखी चिट्ठी में फडणवीस ने उनसे कोरोना वायरस से हुई मौत की जानकारी कथित रूप से छुपाने के संबंध में जांच कराए जाने का अनुरोध किया है।

देशभर में बदली मौसम की चाल, इन राज्यों में भारी बारिश करेगी बुरा हाल

corona_death_1585570667_618x347.jpeg

कोरोना संकट के बीच भारी बारिश और बाढ़ ने मचाई तबारी, हजारों लोग हुए बेघर

72 घंटे में देनी होती है जानकारी
महाराष्ट्र में अब कोरोना को लेकर सियासत गर्मा गई है। बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने एक बार फिर कोरोना से हुई मौतों के आंकड़े को लेकर उद्धव सरकार को घेरा है। फडणवीस ने कहा है कि पिछले तीन महीने में कोविड-19 की वजह से 1000 लोगों की मौत के मामलों को सामने ही नहीं लाया गया है। जबकि कोविड से मौत होने पर 72 घंटे के अंदर इसको बताना जरूरी होता है, लेकिन उद्धव सरकार ने ऐसा नहीं किया।

अब बीजेपी नेता ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को खत लिखकर मौत के आंकड़े छिपाने संबंधी मामले की जांच का अनुरोध किया है।

खत लिखने के बाद सामने आए कुछ मामले
ये पहली बार नहीं है जब फडणवीस ने उद्धव ठाकरे को चिट्ठी लिखकर अनुरोध किया हो। इससे पहले 15 जून को मुख्यमंत्री को ऐसी ही एक चिट्ठी लिखी थी, जिसमें मुंबई में कोविड-19 से हुई मौत की जानकारी सामने नहीं लाने का जिक्र किया गया था।

फडणवीस ने कहा कि 15 जून के उनके पत्र के बाद सरकार ने मुंबई में कोविड-19 से 950 लोगों की मौत की जानकारी दी ।

पूर्व सीएम का कहना है कि सरकार की ओर से रिपोर्ट में कुछ ही लोगों की मौत का जिक्र करना गलत है। सरकार को चाहिए कि वो वास्तविक आंकड़ों को सामने रखे। मेरे खत के बाद सरकार ने 950 मामलों की जानकारी दी थी, इसके बाद कुछ और मामलों को जोड़ा। इस तरह सिर्फ मुंबई में ही 1200 मौत के मामले सामने आए। जबकि इनमें से कुछ मामलों को पहले नहीं बताया गया था।



from Patrika : India's Leading Hindi News Portal
Read The Rest:patrika...

No comments